pauri ghargwal
उत्‍तराखण्‍ड न्यूज़ पौड़ी गढ़वाल

pauri gharhwal जल संस्थान की लापरवाही की खामियाजा से बहेडाखाल क्षेत्र में गहराया पेयजल संकट

अभिषेक नेगी संवाददाता ( पौड़ी गढ़वाल)

पौड़ी गढ़वाल । जनपद पौड़ी गढ़वाल के विकास खंड कोट के सूदूरवर्ती क्षेत्र बहेडाखाल में पेयजल संकट गहराया है, यहां तक कि राजकीय इंटर कालेज बहेडाखाल में जलापूर्ति नहीं होने से मिड डे मील योजना भी ठप हो गई है

प्रधानाचार्य सुमेर चंद द्वारा बताया गया कि विगत दिनों से विद्यालय में पानी की आपूर्ति नहीं है, जिससे मिड डे मील योजना सहित विद्यालय के शिक्षक भी पानी की एक एक बूंद को तरस रहे हैं, साथ ही क्षेत्र से जुड़े चोपड़ी गांव में भी जलापूर्ति बाधित चल रही है, जिससे स्थानीय ग्रामीणों को जलापूर्ति से जूझना पड़ रहा है। विगत दिनों दिन 28 जनवरी 2024 को स्थान बहेडाखाल में जनपद विकास समिति गढ़वाल की बैठक सम्पन्न हुई जिसमें कि विद्यालय के प्रधानाचार्य सहित स्थानीय ग्रामीणों ने सुव्यवस्थित पेयजल की आपूर्ति ना होने से आक्रोश व्यक्त किया।

pauri gharhwal

जनपद विकास समिति गढ़वाल के अध्यक्ष एवं पूर्व प्रमुख मदन सिंह नयाल द्वारा इस सम्बन्ध अधिशासी अभियंता जल संस्थान पौड़ी को क्षेत्र की पेयजल समस्याओं से अवगत कराया गया, किंतु विभाग द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया गया है जिससे समस्या बनी हुई है, उन्होंने कहा कि इस प्रकार का उदासीन रवैया विभाग का ठीक नहीं है और जल जीवन मिशन की योजनाओं को भी विभाग द्वारा पलीता लगाने का काम किया जा रहा है जिससे विभाग के प्रति असंतोष बढ़ता जा रहा है। समिति के अध्यक्ष द्वारा इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी गढ़वाल से आग्रह किया है कि पेयजल समस्याओं से सम्बंधित एवं उसके निवारण हेतु जल संस्थान के अधिशासी अभियंता को नियत तिथि को निर्धारित तय कर बहेडाखाल क्षेत्र में शिविर आयोजित करने हेतु निर्देशित करने का आग्रह किया है

यह भी पढें:pauri gharhwal news राष्ट्रीय पशुधन मिशन के अन्तर्गत पशुपालन विभाग द्वारा विकासखंड स्तरीय पशुधन मेला/ प्रदर्शनी का किया गया आयोजन

pauri gharhwal

जिसकी प्रतिलिपि एवं अन्य पत्र द्वारा भी अधिशासी अभियंता जल संस्थान पौड़ी को समस्याओं से सम्बंधित प्रकरण पर आवश्यक कार्रवाई एवं उसके निवारण हेतु ठोस कदम उठाने का आग्रह किया है, क्षेत्रवासी भी समस्या से निजात व समाधान ना मिलने पर जल संस्थान पौड़ी के विरोध में जन आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *