उत्‍तराखण्‍ड मणिपुर

मणिपुर पुलिस ने असम राइफल्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज की

इंफाल । मणिपुर पुलिस ने असम राइफल्स की नौवीं बटालियन के जवानों पर बिष्णुपुर जिले में उनकी आवाजाही को रोकने का आरोप लगाते हुए एक प्राथमिकी दर्ज की है।इंंफाल में एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि असम राइफल्स के जवानों ने अपने अधिकारियों के नेतृत्व में पिछले हफ्ते क्वाक्टा गोथोल रोड पर पुलिस वाहनों को रोक दिया था, जब पुलिस उग्रवादियों के खिलाफ अभियान चलाने जा रही थी।

हालांकि, असम राइफल्स के अधिकारियों ने कहा कि अर्धसैनिक बल के जवान लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और कुकी और मैतेई कैडरों के बीच झड़पों को रोकने के लिए कमांड मुख्यालय द्वारा सौंपे गए अपने कार्य को पूरा कर रहे थे।इस बीच, मणिपुर इंटीग्रिटी कोआर्डिनेशन कमिटी और मीरा पैबी सहित विभिन्न मैतेई संगठनों के बाद राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा ने भी मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से असम राइफल्स को राज्य में किसी अन्य केंद्रीय अर्धसैनिक बल के साथ बदलने का आग्रह किया।प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ए.शारदा देवी और उपाध्यक्ष चिदानंद द्वारा संयुक्त रूप से हस्ताक्षरित एक पत्र में कहा गया है

, जातीय अशांति के संबंध में और राज्य में शांति बनाए रखने में असम राइफल्स की भूमिका काफी आलोचना और सार्वजनिक आक्रोश के तहत रही है।पत्र में कहा गया है कि तीन मई को जातीय हिंसा फैलने के बाद से असम राइफल्स के जवान राज्य में शांति और सामान्य स्थिति बहाल करने में अपनी निष्पक्ष भूमिका निभाने में पूरी तरह विफल रहे।

मणिपुर सरकार ने सोमवार को एक आदेश जारी कर बिष्णुपुर जिले के मोइरंग लमखाई में चेक-गेट पर असम राइफल्स की जगह राज्य पुलिस और सीआरपीएफ को तैनात कर दिया, क्योंकि पिछले हफ्ते वहां ताजा हिंसा भडक़ी थी।अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) एल. कैलुन द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है, बिष्णुपुर से कांगवई तक सडक़ पर मोइरांग लमखाई में चेक-पॉइंट को असम राइफल्सह के स्थान पर नागरिक पुलिस और 128 बीएन सीआरपीएफ द्वारा संचालित किया जाएगा।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *