उत्‍तराखण्‍ड

कड़क पहाड़ी खेल प्रोत्साहन समिति ने पेड़ लगाओं,धरती बचाओं और गर्मी से निजात पाओ के तहत किया वृक्षारोपण

संदीप बिष्ट
कोटद्वार। सामाजिक संस्था कड़क पहाड़ी खेल प्रोत्साहन समिति ने अपने वृक्षारोपण मिशन के तहत पहला वृक्षारोपण कार्यक्रम का आगाज नीम एवं बाँज के पौधों को रोपित कर किया। समिति के वृक्षारोपण मिशन पेड़ लगाओं,धरती बचाओं और गर्मी से निजात पाओ के तहत प्रथम पौधा वायु सेना से सेवानिवृत्त,वरिष्ठ समाज सेवी,रक्तदानी एवं विमला कुंदन सेवा ग्राम ट्रस्ट के संस्थापक गिरिराज सिंह रावत ने अपने छोटे भाई की धर्मपत्नी स्वर्गीय चंद्रकांता रावत (मृत्युपरांत उत्तरखंड एवं दिल्ली एम्स की प्रथम सम्पूर्ण देहदानी महिला) की स्मृति में रोपित किया तथा दूसरा पौधा अपने पुत्र मृत्युपरांत नेत्रदानी स्वर्गीय कुणाल रावत की स्मृति में रोपित किया।

समिति के मिशन का तीसरा पौधा आधारशिला रक्तदान समूह के संचालक रक्तपुरुष दलजीत सिंह ने अपने पिता सरदार स्वर्गीय महिंद्र सिंह एवं माता सरदारनी स्वर्गीय अमरजीत कौर की स्मृति में अपनी जीवनसंगनी मंजू सिंह के साथ मिलकर रोपित किया।

वहीं समिति के मिशन के प्रथम दिवस का अंतिम पौधा देवभूमि उत्तराखंड यूनिवर्सिटी की बी.सी.ए प्रथम वर्ष की छात्रा देवयानी बहुगुणा ने अपने सोशल इंटर्नशिप के तहत रोपित किया। समिति के अध्यक्ष बबलू नेगी कड़क पहाड़ी ने कहा की इस वर्ष पड़ी चिलचिलाती गर्मी ने पुरे भारत वर्ष के लोगो को परेशान किया और तपती गर्मी से पहाड़ भी अछूते नहीं रहे। इसके बावजूद भी हम लोग पेड लगाने और उसके संरक्षण करने में आगे आने के लिए कतराते है। इसी को देखते हुए कड़क पहाड़ी खेल प्रोत्साहन समिति के सभी सदस्य “पेड़ लगाओं, धरती बचाओं और गर्मी से निजात पाओ” मिशन के तहत कार्य कर रहे है। कहा की समिति इस वर्षा ऋतु में ऑक्सीजन बेल्ट की स्थापना के तहत नीम,पीपल,बरगद के पौधे तथा जल संरक्षण के बाँज के वृक्ष का रोपण कर रही है जिससे भविष्य में ठंडी छाँव एवं शुद्ध ऑक्सीजन मिल सके।

समिति के प्रथम दिवस के पौधा रोपण को सफल बनाने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, पौड़ी से पी.एल.वी संदीप बिष्ट,कड़क पहाड़ी खेल प्रोत्साहन समिति के सदस्य अमिता नेगी , मास्टर अथर्व बिष्ट,पशु प्रेमी एवं गौ-रक्षक प्रकाश ढौंडियाल एवं विक्रांत भंडारी,अमित बलोधी, दिवस जखमोला,समाज सेवी एवं पशु प्रेमी नम्रता कण्डारी,वरिष्ठ समाज सेवी संजीव थपलियाल आदि ने महत्वपूर्ण योगदान दिया।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *